Thursday, 11 October 2012

2012 Nobel Prize in Chemistry 2012

रसायन का नोबेल पुरस्कार
11-10-12

रॉबर्ट लेपकोविट्ज                      ब्रियान कोबिल्का

इस साल का रसायन का नोबेल पुरस्कार दो अमरीका वैज्ञानिकों   रॉबर्ट लेपकोविट्ज और ब्रियान कोबिल्का को दिया गया है। यह पुरस्कार उन्हें उनप्रोटीनों के अध्ययन के लिए दिया गया है जो कोशिकाओं बाहरी संकेतों के प्रति प्रतिक्रिया करने में सक्षम बनाते हैं। दोनों वैज्ञानिकों ने जी प्रोटीन कपल्ड रिसेप्टर्स के महत्वपूर्ण वर्ग के संबंध में अभूतपूर्व खोज की है। इस योगदान से कोशिकाओं के बीच  संकेतों के आदान-प्रदान के डटिल ताने बाने  को समझने में मदद मिलेगी। शरीर की अरबों कोशिकाओं के बीच किसी रसायनिक संदेश के परति  जो प्रतिक्रिया होती है। उसके लिए जी प्रोटीन कपल्ड रिसेप्टर एक गेटवे की तरह काम करता है।


ब्रियान कोबिल्का
ब्रियान कोबिल्का का जन्म 1955 में मिनिसोटा फाल्स में हुआ। वह मिनिसोटा विश्वविद्यालय से जीव विज्ञान और रसायन शास्त्र में स्नातक हैं। येल विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ मेडिलिन से पोस्ट ग्रेजुएट हैं।


रॉबर्ट लेपकोविट्ज
रॉबर्ट लेपकोविट्ज का जन्म 1943 में न्यूयॉर्क सिटी में हुआ। कोलंबिया विश्वविद्यालय के कॉलेज ऑफ पिजिशियनएंड सर्जन से 1965 में स्नातक अगले साल वहीं से पोस्ट ग्रेजुएट।


2012 Nobel Prize in Chemistry 2012

10-10-12


Robert Lefkowitz                   Brian Kobilka


Duke University professor Robert Lefkowitz and Stanford University professor Brian Kobilka were named winners of the 2012 Nobel Prize in Chemistry. The two American researchers won the Nobel Prize in chemistry Wednesday for studies of protein receptors that let body cells sense and respond to outside signals like danger or the flavor of food. Such studies are key for developing better drugs.




Dr. Brian Kobilka , 57,  was awarded the 2012 Nobel Prize in Chemistry with his former teacher Dr. Robert Lefkowitz, 69,Wednesday for discovering the inner workings of G-protein-coupled receptors, which allow cells to respond to chemical messages such as adrenaline rushes  


Brian Kobilka



 Duke University professor Robert Lefkowitz, MD,  awarded the 2012 Nobel Prize in Chemistry jointly with his former student Brian K. Kobilka of Stanford University. The two were cited for studies of proteins, known as G-protein coupled receptors, that let body cells respond to signals from the outside. The discovery could aid in the development of new drugs.

Robert Lefkowitz 
 

No comments:

Post a comment